Tuesday, July 31, 2018

On July 31, 2018 by Unity in diversity in    No comments
https://mnaidunia.jagran.com/madhya-pradesh/rajgarh-golden-book-record-969475


On July 31, 2018 by Unity in diversity in    No comments

मप्र राजगढ(धार) - नगर परिषद द्वारा प्रतिभा पर्व के रूप में मनाया जा रहा है आयोजन। नगर परिषद के द्वारा नगर के 10 हजार से ज्यादा बच्चो को करवाया गया भोजन। 5000 से ज्यादा बच्चे एक साथ एक समय में मिठाई खाकर बनाया रिकार्ड। गोल्डन बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड की टीम के सामने रिकार्ड बनाया।जैसे ही सभी बच्चो ने एक साथ,एक समय में मिठाई खाई तो यह अनोखा रिकार्ड नगर परिषद के नाम दर्ज होगया। 10 हजार से ज्यादा बच्चो नागरिको,शिक्षको,आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओ, जनप्रतिनिधि,व पत्रकारों की उपस्थिति में गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड की टीम से आये प्रतिनिधि ने रिकार्ड बनने की घोषणा करते हुए।नगर परिषद की अध्य क्ष श्रीमती मधुलिका तांतेड़ एवम प्रतिनिधि सुरेश तांतेड़ व नगर परिषद के प्रभारी सीएमओ विजय शर्मा को प्रमाणपत्र सोपा बच्चो ने खूब अभिवादन किया। इससे पूर्व भी नगर परिषद ने लागेस्ट डस्टबिन की रो बनाने का रिकार्ड बनाया था।
पुर्व नगर परिषद् अध्यक्ष एवं अध्यक्ष प्रतिनिधि सुरेष तातेड़ ने कहा कि पिछले 10 वर्षो से राजगढ़ नगर के सारे बच्चों का 26 जनवरी पूर्व को भोजन कराता आ रहा है ओर राजगढ़ की प्रतिभा के सम्मान में कुछ करे तो यह प्रयास निरन्तर बढ़ता गया जब 2014 में डस्टबीन की रो बनाने का रिकार्ड बनाया था तब से लगा दो चार रिकार्ड ओर बना सकते है ओर सफलता मिली अगर एकसाथ बच्चों का मुहं मीठा कराया जाए तो रिकार्ड बन सकता है हमने 5 हजार बच्चो का मुहं मीठा कराया ओर 10 हजार से ज्यादा स्कूल के बच्चों का भोजन करवाया गया। नप अध्यक्ष मधुलिका सुरेष तातेड़ ने कहा हमने एक रिकार्ड 2014 में डस्टबीन रो बनाकर बनाया था ओर आज बच्चों को मुंह मीठा कराकर दूसरा रिकार्ड बनाया। आगे भी प्रयास है नगर परिषद् ओर उचाइयो को छुए। गोल्डन बुक आफ वल्र्ड के संतोष अग्रवाल ने कहा एक साथ स्वीटस खाने का रिकार्ड बनाया गया ओर इस प्रकार यह पहला रिकार्ड है। नगर परिषद् सीएमओ विजय शर्मा ने कहा स्वच्छता को लेकर प्रयास किए जा रहे है

Sunday, July 29, 2018

On July 29, 2018 by Unity in diversity   No comments
On July 29, 2018 by Unity in diversity   No comments
On July 29, 2018 by Unity in diversity in    No comments



http://ratantimes.com/dhar-rajgrah-raj-rajeshwari-mahadev-

http://www.timesofmalwa.in/dhar-rajgarh-nagar-chorasi-story/

http://www.timesofmalwa.in/rajgarh-rajendra-nagar-news/



On July 29, 2018 by Unity in diversity in    No comments






Thursday, July 26, 2018

On July 26, 2018 by Unity in diversity in    No comments
 
  Most people (Hindus, Muslims, Christians and other religions) participating in the city's chaurasi rituals give the message of unity in diversity in diversity.
 India has been proving to be a great country, this concept has been for many years. India is a country where unity is very diverse to see because people of different religions, caste, culture and tradition live together.There is also more than 20 thousand population where Hindus - Muslims - Sikhs - Christians - and people from different castes are living. There is a specificity in the city. It is said that since about 2000, the oldest rituals in India are happening ever. Nagar Chaurasi means that all people sit together and eat. About 20 thousand people participate in rituals. Dhar of Madhya Pradesh is the city of Rajgarh.

Receive a glimpse of our message in a different style - the message of peace, and the behavior of every society and of your own. This is to remind you that we are all one.
 This rare, oldest ritual has been witnessed where people of about twenty thousand Hindus, Muslims, Christians and other religions participate. This is the first word of its kind in India that is a message in "Unity in Diversity"


On July 26, 2018 by Unity in diversity in    No comments
  
  
    मध्यप्रदेश के जिला धार तहसील सरदारपुर के नगर राजगढ़ नगर में परंपरा नगर चौरासी में हिंन्दुओ,मुस्लिम अन्य धर्मो व सभी जातियों का भाग लेना विविधता में अनेकता में एकता का सन्देश देती है।

  यही विविधता में अनेकता में एकता भारत को एक बेहतरीन देश साबित कर रहा है। भारत ही ऐसा देश है जहा बहुत स्पष्ट है वहा की विविधता। जहा कई धर्म,जाति,संस्कृति ओर परंपरा के लोग एक साथ रहते है।

  इसी ओर 20 हजार से अधिक आबादी जहा हिन्दु-मुस्लिम-सिक्ख-ईसाइ ओर विभिन्न जातियों के लोग रह रहे है ओर इस नगर की यही विशिष्टता है जहा एक पंगत पर सभी जातियों के लोग किसी न किसी अवसर पर साथ में बैठकर सहभोज करते है। आम भाषा में नगर भोज या सर्वधर्म समाज के लोगो का सहभोज इसको नगर चौरासी के नाम से जाना जाता है।

  नगर चौरासी का मतलब यहा के लोगो द्वारा बताया जाता है चौरासी जातियों सभी कौम के लोग।

   लगभग यह नगर चौरासी सन् 2000 से अभी तक यह जारी है लगभग 15 से 20 हजार लोगो द्वारा इसमे भाग लिया जाता है। यह नगर चौरासी किसी प्रसंग या मन्दिर की प्राण प्रतिष्ठा पर होती है। लगभग 18 से अधिक नगर चौरासी हो चुकी है। यह भारत की सबसे प्राचीन परपंरा कहे तो अतिशयोक्ति नही होगी।

 यह राजगढ़ नगर हर समाज का व्यव्हार,शांति का संदेश ओर अपनी एक खुद की एक शैली में एक विश्वास की झलक को दर्शाता है यह एक प्रेरणा है कि हम सब एक है। भारत के लिए यह नगर चौरासी शब्द अनेकता में एकता का एक सन्देश है।



     पत्रकार अक्षय भण्डारी राजगढ़(धार) मध्यप्रदेश।
      मों.9893711820